असम-त्रिपुरा में हिंसक प्रदर्शन, पुलिस ने की फायरिंग; गुवाहाटी एयरपोर्ट पर फंसे यात्री

0
39

नई दिल्ली। Citizenship Amendment Bill (CAB) Protest Live Updates: भारी हंगामे और विरोध प्रदर्शन के बीच नागरिकता संशोधन बिल (CAB) बुधवार रात राज्यसभा में भी पारित हो गया। इसके साथ ही पूर्वोत्तर के राज्यों, विशेषकर असम और त्रिपुरा में बिल का विरोध और तेज हो गया है। स्थानीय लोग सड़कों पर उतरकर तोड़फोड़ और आगजनी कर रहे हैं। इसकी वजह से असम के कई जिलों में बुधवार शाम को ही कर्फ्यू लगा दिया गया था। बावजूद दोनों राज्यों में हिंसक प्रदर्शनों का दौर जारी है। इसकी वजह से दोनों राज्यों में रेल व हवाई सुविधाएं भी बाधित हैं। असम के कर्फ्यूग्रस्त इलाकों में इंटरनेट सेवाएं भी बंद हैं।

मालूम हो कि केंद्र सरकार ने सोमवार को नागरिकता संशोधन बिल को लोकसभा में पास कराया था। तभी से सदन से लेकर सड़क तक बिल का विरोध जारी है। असम और त्रिपुरा में सोमवार से ही बिल के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं। बुधवार को राज्यसभा से बिल पास होने के बाद दोनों राज्यों में विरोध प्रदर्शन और उग्र हो चुका है। अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा। उनके हस्ताक्षर के बाद ये बिल कानून बन जाएगा। उधर दोनों राज्यों में प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए सुरक्षा के अतिरिक्त बंदोबश्त किए जा रहे हैं। बिल के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों के ताजा अपडेट के लिए हमारे साथ बनें रहें।

Citizenship Amendment Bill Protest Live Updates:

पार्टी नेताओं के साथ बैठक करेंगी ममता, एयरपोर्ट पर फंसे यात्री

नागरिकता संशोधन बिल और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) पर टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी 20 दिसंबर को अपनी पार्टी के नेताओं के साथ एक बैठक करेंगी। उड़ाने रद होने के कारण इसके अलावा गोवाहाटी एयरपोर्ट पर कई यात्री फंस गए हैं।

पुलिस महानिदेशक का ट्रांसफर

इसी बीच अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (ADGP) (कानून और व्यवस्था) मुकेश अग्रवाल का ट्रांसफर कर असम को ADGP (CID) के तौर पर तैनात कर दिया गया है।

प्दर्शनकारियों के चलाई गई गोलियां

गुवाहाटी में लालुंगौना इलाके में प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने गोलियां चलाई, अधिकारियों के अनुसार इस दौरान कुछ लोग घायल हो गए हैं।

हिंसा फैलाने वाली सामग्री के खिलाफ रहे सतर्क

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी करते हुए टीवी चैनलों को हिंसा फैलाने वाली सामग्री के खिलाफ सावधान रहने को कहा है। जारी एडवाइजरी में कहा गया है कि इस तरह की सामग्री का प्रसारण नहीं करने के लिए कहा है जिससे हिंसा भड़कने, ‘राष्ट्र विरोधी रवैये’ को बढ़ावा देने और राष्ट्र की अखंडता को प्रभावित करने वाली कोई भी चीज़ शामिल है।

कश्मीर से कन्याकुमारी तक देश में अशांति: आजाद

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि अशांति कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरे देश में फैली हुई है। लेकिन, नागरिक संशोधन बिल पास होने के बाद  सबसे खराब स्थिति पूर्वोत्तर राज्यों में है।

वाम दलों का देशभर में विरोध प्रदर्शन, CM ने की शांति की अपील 

वाम दलों ने 19 दिसंबर को देश भर में Citizenship Amendment Bill(CAB) और NRC के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने हिंसा कर रहे लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है।

राम माधव बोलें हमे बिल पास होने की खुशी

भाजपा महासचिव राम माधव ने कहा कि हमें इस बात की खुशी है कि नागरिकता संशोधन विधेयक संसद के दोनों सदनों से पास हो गया है। जल्द ही ये कानून हो जाएगा। यह लाखों शरणार्थियों को राहत देगा जो दशकों पहले भारत आए थे और यहां पर बिना किसी नागरिक पहचान के रह रहे हैं।

इन जिलों में नेट सेवा प्रभावित 

असम में शिवसागर, जोरहट, गोलाघाट, लखीमपुर, धीमाजी, तिनसुकिया, डिब्रूगढ़, चरायदेव, कामरूप (मेट्रो) और कामरूप में इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है। इतना ही नहीं त्रिपुरा सरकार ने  एसएमएस पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

 भाजपा नेता के घर पर तोड़फोड़ और आगजनी

डिब्रूगढ़ (असम) के केंद्रीय मंत्री और भाजपा सांसद, रामेश्वर तेली ने कहा कि कल रात लगभग 11 बजे मेरे चाचा की दुकान में आग लगा दी गई और मेरे घर की बाउंड्री वॉल को भी प्रदर्शनकारियों ने क्षतिग्रस्त कर दिया,  मैं असम के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील करता हूं।

 

असम के लिए उड़ानें और ट्रेन रद

 वहीं, विरोध प्रदर्शन के कारण कोलकाता (पश्चिम बंगाल) से डिब्रूगढ़ सेक्टर (असम) के लिए जानें वाली सभी उड़ानों को रद कर दिया गया है। विस्तारा, इंडिगो और स्पाइसजेट ने असम जाने वाली अपनी फ्लाइट को कैंसल कर दिया है।  साथ ही असम और त्रिपुरा में रणजी ट्रॉफी निलंबित कर दिया गया है। उत्तर सीमा रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी (सीपीआरओ) ने बताया कि गुवाहाटी से ऊपरी असम क्षेत्र की ओर जाने वाली सभी ट्रेनों को भी रद कर दिया गया है।

  

डिब्रूगढ़ व गुवाहाटी में कर्फ्यू

असम में छात्र संगठनों ने प्रदर्शन के दौरान काफी तोड़फोड़ की। डिब्रूगढ़ जिले में अगले आदेश तक कर्फ्यू लगा दिया गया है। गुवाहाटी में भी राज्य सरकार ने गुरुवार रात 7 बजे तक के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया है।

पीएम मोदी ने की शांति की अपील

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों से शांति की अपील की है। पीएम मोदी ने लिखा कि मैं असम के भाईयों बहनों को विश्वास दिलाता हूं कि CAB के पास होने से आप पर असर नहीं पड़ेगा। कोई आपका हक नहीं छीन रहा है।

प्रदर्शकारियों ने वाहनों को किया आग के हवाले

प्रदर्शनकारियों ने वाहनों और रेलवे स्टेशनों को आग के हवाले कर दिया। हिंसा और आगजनी के चलते सुरक्षा बलों को फायरिंग तक करनी पड़ी। लिहाजा असम के गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ में अनिश्चितकाल के लिए कफ्र्यू लगा दिया गया और चार जिलों में सेना तैनात कर दी गई।

त्रिपुरा में अर्धसैनिक बल तैनात

त्रिपुरा में भी सेना के नियंत्रण वाले अर्धसैनिक बल असम राइफल्स को तैनात किया गया है। राज्य में एक प्रदर्शनकारी के मारे जाने की बात भी कही जा रही है। पूर्वोत्तर का सेना मुख्यालय पूरे हालात पर नजर रखे हुए है। हालांकि, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने दावा किया है कि ‘ज्वाइंट मूवमेंट अगेंस्ट सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल’ ने अपना अनिश्चितकालीन आंदोलन वापस ले लिया है।

सेना के पीआरओ लेफ्टिनेंट कर्नल पी. खोंगसई ने बताया कि गुवाहाटी शहर में सेना की दो टुकडि़यां तैनात की गई हैं और वे शहर में फ्लैग मार्च कर रही हैं। तिनसुकिया, जोरहट और डिब्रूगढ़ जिलों में भी सेना तैनात की गई है।

कफ्र्यू के बावजूद सड़कों पर प्रदर्शनकारी

वहीं, बुधवार को हजारों कैब विरोधी प्रदर्शनकारी असम की सड़कों पर उतर आए और कई जगहों पर उनका पुलिस के साथ संघर्ष हुआ। असम के छात्र आंदोलन के बाद राज्य में पहली बार इस तरह के हालात बने हैं। गुवाहाटी में कफ्र्यू की अवहेलना करके प्रदर्शनकारी सड़कों पर जमे हुए हैं और शहर की ज्यादातर सड़कों को उन्होंने ब्लॉक कर रखा है।

दो रेलवे स्टेशनों को लगाई आग

पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि असम में प्रदर्शनकारियों ने बुधवार रात डिब्रूगढ़ के चाबुआ रेलवे स्टेशन और तिनसुकिया जिले के पानीटोला रेलवे स्टेशनों को आग लगा दी। डिब्रूगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का गृह नगर है।

 सैकड़ों प्रदर्शनकारी हिरासत में

असम की राजधानी दिसपुर में प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बलों को फाय¨रग तक करनी पड़ी। प्रदर्शनकारी छात्रों और सुरक्षा बलों के बीच राज्य सचिवालय के सामने झड़प हुई। छात्र नेताओं ने दावा किया कि पुलिस कार्रवाई में कई प्रदर्शनकारी घायल हुए हैं। सूत्रों के मुताबिक, गुवाहाटी, डिब्रूगढ़ और जोरहट में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है। त्रिपुरा की राजधानी में भी ऐसी ही घटनाएं हुई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here