CAB Protest in Bengal: नहीं बुझ रही बंगाल की आग, आज कई रूट पर ट्रेनें हुईं रद

0
40

नई दिल्ली।CAB Protest in Bengal, देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। रविवार को पश्चिम बंगाल में भी इसको लेकर प्रदर्शन हुए। पश्चिम बंगाल में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध जारी है।बंगाल में तीसरे दिन भी उत्पातियों ने मुर्शिदाबाद के पास रेलवे स्टेशनों में तोड़फोड़ और आगजनी की। रेल पटरी पर टायर जलाकर ट्रेनों को रोका और पथराव किया।मौके पर पहुंची पुलिस के वाहन को भी फूंक दिया।एहतियातन कई ट्रेनों को रद कर दिया गया। छह जिलों में इंटरनेट सेवाएं भी बंद कर दी गई हैं।

कई ट्रेनें रद

पश्चिम बंगाल में नागरिकता कानून पर विरोध प्रदर्शन के बीच कई ट्रेनों को रद कर दिया गया है। पूर्वी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी के मुताबिक पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के कटिहार डिवीजन में विभिन्न स्थानों पर आंदोलन के कारण 12042 डाउन न्यू जलपाईगुड़ी- हावड़ा शताब्दी एक्सप्रेस और 12041 अप हावड़ा-न्यू जलपाईगुड़ी शताब्दी एक्सप्रेस आज रद रहेगी।

कई जगहों पर हिंसक प्रदर्शन हुए

रविवार को बंगाल में मुर्शिदाबाद, बीरभूम और उत्तर 24 परगना में लोगों ने हिंसा प्रदर्शन किए। इस दौरान सड़कों पर टायर जलाकर इसे रोका गया। इससे ट्रैफिक बड़े पैमाने पर प्रभावित हुआ है।  हावड़ा से ट्रेन बंद होने से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। हावड़ा, उत्तर 24 परगना और मुर्शिदाबाद के विभिन्न स्टेशनों पर ट्रेनों को रोक दिया गया है। इस बीच, मालदा और आसपास के जिलों में इंटरनेट बंद कर दिया गया है।

वहीं, कोलकाता में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा कि मैं राज्य के लोगों से अपील करता हूं कि वे संकट में पड़े लोगों की मदद करने के लिए और शांति बनाए रखने के लिए कुछ करें।

असम में सुधर रहे हालात

असम में भड़की ¨हसा का दौर थमता दिख रहा है। रविवार को गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ के कुछ हिस्सों में दिन में कफ्यरू में ढील दी गई। राज्य के विभिन्न हिस्सों में फंसे लोगों को निकालने के लिए राज्य पर्यटन विभाग ने विशेष ट्रेनों की व्यवस्था की है। कफ्यरू में ढील के बाद राशन की दुकानों व पेट्रोल पंपों पर लोगों की कतारें दिखीं। यहां पिछले दिनों हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या चार हो चुकी है। मेघालय में भी हालात सामान्य हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here