CAA And NRC पर ममता बोलीं, भाजपा में हिम्मत है तो यूएन की निगरानी में कराए जनमत संग्रह

0
24

कोलकाता। Citizenship Amendment Act: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सारी सीमाएं लांघती जा रही हैं। इस क्रम में ममता ने कहा कि अगर भाजपा में हिम्मत है तो वह एनआरसी व सीएए पर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की निगरानी में जनमत संग्रह कराए। ममता के इस अजीबोगरीब बयान से तो यही लगता है कि भाजपा का विरोध करते-करते वह शायद यह भूल गई हैं कि भारत एक गणराज्य है। दरअसल, एनआरसी व सीएए को संसद में वोटिंग के दौरान बहुमत मिला है, उसके बाद ही संबंधित बिल पास हुए हैं। वहीं, ममता के इस बयान से कश्मीर मसले पर यूएन में जनमत संग्रह की मांग कर रहे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को एक और नया मुद्दा मिल सकता है।

ममता ने वीरवार को कोलकाता में कहा कि आजादी के 73 साल बाद अचानक हमें यह साबित करना होगा कि हम भारतीय नागरिक हैं। भाजपा देश को विभाजित कर रही है। आप विरोध को न रोकें, हमें सीएए रद कराना होगा। ––

सीएए और एनआरसी के खिलाफ लगातार तृणमूल कांग्रेस का विरोध जारी है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी महानगर के रानी रासमणि रोड में रैली को संबोधित किया। उन्होंने भाजपा का नाम नहीं लिए बगैर कहा कि यहां हम किसी की दया पर नहीं रहते। सीएए और एनआरसी को लेकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में लगातार बीते तीन दिनों से तृणमूल कांग्रेस का विरोध जारी है।

सबका विकास की जगह हो रहा सबका सर्वनाश : ममता

सीएए और एनआरसी के खिलाफ बुधवार को लगातार तीसरे दिन सड़क पर उतरीं मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने सबका साथ, सबका विकास की जगह सबका सर्वनाश कर दिया है। ममता ने कहा-‘अब आप सिर्फ भाजपा नेता नहीं हैं बल्कि केंद्रीय गृहमंत्री भी हैं। आपसे देश का ध्यान रखने और अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को नियंत्रित करने की अपील करूंगी। आपका काम आग बुझाना है। आप यह सुनिश्चित करें कि देश सीएए की आग में न जले।’

ममता की अगुआई में इस दिन हावड़ा मैदान से कोलकाता के एस्प्लानेड स्थित डोरिना क्रॉसिंग तक सीएए और एनआरसी विरोधी जुलूस निकला। जुलूस की समाप्ति पर ममता ने कहा-‘जब तक भाजपा देश में नहीं थी, वो कुछ नहीं हुआ, जो अब हो रहा है। अभी जम्मू-कश्मीर, असम, त्रिपुरा, उत्तर-पूर्व दिल्ली जल रहे हैं। ऐसे में आप कह रहे हैं कि देश में एनआरसी होगा ही होगा। आप ऐसा क्यों कह रहे हैं?’

कितने जेल और डिटेंशन कैंप बनाओगे

ममता ने कहा-‘कितने जेल और कितने डिटेंशन कैंप बनाओगे, पहले नक्शा दिखाओ। आप इस तरह हमें नजरंदाज नहीं कर सकते।’ ममता ने चेतावनी भरे लहजे में कहा-‘सीएए और एनआरसी को वापस लीजिए, वरना मैं देखती हूं कि आप इसे यहां कैसे लागू करते हैं। याद रखें कि बहुमत होने से सब कुछ करना नहीं चलेगा। आप सिर्फ 35 फीसद वोट लेकर सत्ता में आए है। 65 फीसद लोगों ने आपको नापसंद किया है।’

आधार कार्ड नहीं चलेगा तो क्यों किया करोड़ों खर्च

ममता ने कहा कि अब अमित शाह कह रहे हैं कि आधार कार्ड नागरिकता का सुबूत नहीं है, फिर हर चीज से उसे लिंक क्यों किया जा रहा है? आधार कार्ड नहीं चलेगा तो क्यों बनवाया गया? 6000 करोड़ रुपये आधार कार्ड पर खर्च क्यों किए गए? वोटर कार्ड नहीं चलेगा, आधार कार्ड नहीं चलेगा तो क्या भाजपा की बोलती चलेगी। आधार नहीं, पैन नहीं, वोटर कार्ड नहीं तो आप नागरिक नहीं, ये क्या चल रहा है। सोशल मीडिया पर 90 फीसद फेक वीडियो भाजपा के फंड से चलते हैं।

असंवैधानिक और अनैतिक है सीएए

ममता ने कहा-‘सीएए असंवैधानिक व अनैतिक है। हम चाहते हैं कि हमारा यह आंदोलन देश का आंदोलन बने। सभी जाति, धर्म, वर्ग का आंदोलन बने लेकिन विरोध शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक होना चाहिए। आग लगाना आसान है, बुझाना कठिन। हम आग जलाने नहीं, बुझाने का काम करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here