दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान, बोले- CAA का समर्थन कर रहे हैं कांग्रेस के कुछ बड़े नेता

0
27

भोपाल: मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने सीएए लागू करने से साफ मना कर दिया है और प्रदेशभर में इस कानून का पूरजोर विरोध किया जा रहा है। लेकिन इसी बीच प्रदेश के वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने बुधवार को कांग्रेस सेवादल के प्रशिक्षण शिविर चौकाने वाला बयान दिया है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस के कई नेता नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में हैं। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने का भी कांग्रेस के कुछ नेताओं ने समर्थन किया किया था जिसका मुझे दुख हुआ है। मुझे लगता है कि कांग्रेस का संगठन कमजोर हो चुका है और उसे मजबूत करने की जरूरत है।

कांग्रेस नेता कर रहे है सीएए के समर्थन 
दिग्विजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस नेता कहते हैं कि सीएए में क्या बुराई है। ऐसे ही पहले धारा 370 का समर्थन किया था और अब सीएए का। दिग्विजय सिंह ने कहा- जो कांग्रेस नेता ऐसी बातें करते हैं वे कांग्रेस की विचारधारा, नेहरू-गांधी के सिद्धांत और देश की संस्कृति को नहीं जानते। दिग्विजय सिंह ने कहा कि पर्दे के पीछे कुछ कांग्रेसी नेता नागरिकता संशोधन का समर्थन कर रहे हैं।

सेवादल में प्रशिक्षण जरुरी
दिग्विजय सिंह ने कहा सेवादल का गठन आरएसएस से पहले हो चुका है। मैं मानता हूं कि सभी विधायक, सांसद, महापौर, पार्षद समेत सभी जनप्रतिनिधियों को सेवादल का प्रशिक्षण करना अनिवार्य कर देना चाहिए।
उन्होंने दावा किया कि जो कांग्रेस नेता सेवादल का प्रशिक्षण लेगा वो किसी भी स्थिति में कांग्रेस को छोड़कर नहीं जाएगा। कांग्रेस को मजबूत करने की जरूरत है।

सड़कों पर नहीं दिखते कार्यकर्ता
दिग्विजय सिंह ने कहा- आज स्थिति ये है कि हमारी यूथ विंग एनएसयूआई तक सड़क पर नहीं दिखती है। कांग्रेस चुनावी राजनीति के चलते विचारधारा से दूर होती जा रही है।

हिंदू महिलाओं के लिए बनना चाहिए कानून
दिग्विजय सिंह ने कहा- ट्रिपल तलाक पर मुस्लिम महिलाओं की चिंता जनक हैं। 20 लाख हिंदुओं ने पत्नी को छोड़ा उस पर भी कानून बनाओ।

आरएसएस को हम हिन्दू संगठन नहीं मानते हैं
दिग्विजय सिंह ने कहा कि आरएसएस हिंदुत्व की बात करता है जबकि हिंदुत्व शब्द का किसी भी धर्म शास्त्र में कहीं कोई उल्लेख ही नहीं है। धर्म के नाम पर हिंदुत्व का कोई लेना देना नहीं है। हम आरएसएस का हिन्दूओं का संगठन नहीं मानते हैं। ये एक फासीवाद विचारधारा है।

सावरकर पर बोले
इसके बाद दिग्विजय सिंह ने कहा कि हम वीर सावरकर के अंग्रेजों से माफी मांगने का विरोध करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here