शोएब इकबाल के AAP में शामिल होने पर BJP ने साधा निशाना, पूछा-ऐसी क्या आफत आ गई

0
28

नई दिल्ली: भाजपा ने कांग्रेस के पूर्व विधायक शोएब इकबाल के आम आदमी पार्टी में शामिल होने पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर शुक्रवार को तीखा हमला किया और आरोप लगाया कि वह तुष्टीकरण तथा मुस्लिम वोट बैंक की खातिर संविधान की बजाए शरीयत को तरजीह देने वालों को पार्टी का चेहरा बना रहे हैं। भाजपा के प्रवक्ता संबित पात्रा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इकबाल के खिलाफ डकैती, दंगा कराने, घातक हथियारों के साथ धमकी देने, हत्या के प्रयास आदि के समेत कई गंभीर मामले दर्ज हैं। इकबाल मुख्यमंत्री को जेल भिजवाने की बात कहते थे लेकिन ऐसा क्या हुआ कि केजरीवाल ने इकबाल को अपनी पार्टी में शामिल कर लिया?

डॉ. पात्रा ने आरोप लगया कि केजरीवाल तुष्टीकरण और मुस्लिम वोट बैंक की खातिर यह कर रहे हैं। गत दिनों जामा मस्जिद के पास नागरिकता संशोधन कानून (सीएए)के विरोध में हुए प्रदर्शन में इकबाल के पुत्र मोहम्मद इकबाल ने बेहद सांप्रदायिक भाषण दिया था जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सीधे चुनौती देते हुए शरीयत के लिए गर्दन भी कटाने की बात कही थी और अल्लाह हू अकबर के नारे लगाए थे। उन्होंने केजरीवाल से सवाल किया कि क्या वह देश को संविधान की बजाए शरीयत से चलाने के पक्ष में हैं। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान को एक बार फिर धर्म के आधार पर बांटने की साजिश कौन कर रहा है, यह उजागर हो गया है।

देश में चाहे आगजनी हो, या हिन्दू मुसलमानों में फसाद हो, उनके लिए सब जायज़ है। लेकिन इससे मुस्लिम वोट बैंक बनना चाहिए। भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि देश में अब विपक्षी दल एक दूसरे की पोल खोलने में लग गए हैं। तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अचानक 13 जनवरी को विपक्षी दलों की बैठक में आने से इनकार कर दिया है और कहा है कि वह कांग्रेस और वामदलों की घटिया राजनीति से निराश हैं जो बंगाल में बसें जला रहे हैं और तोड़फोड़ कर रहे हैं। कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा कह रही हैं कि सीएए के विरोध में आंदोलन में मरने वालों को शहीद का दर्जा दिया जाए जबकि उनकी पार्टी सेना अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत को सड़क का गुंडा कहती है। समाजवादी पार्टी के राम गोविंद चौधरी कह रहे हैं कि सीएए के विरोध में आंदोलन करने वालों को पेंशन एवं भत्ता दिया जाएगा।

डॉ. पात्रा ने कहा कि इन सबकी सहिष्णुता और सेकुलरवाद केवल एक पक्ष तक सीमित है। आगजनी और पत्थराव करने वालों से हमदर्दी है। जिनके सर फूटे हैं, सेना तथा पुलिस के जवानों से कोई हमदर्दी नहीं है। वाड्रा मेरठ और राजस्थान में कई जगहों पर जा रही हैं लेकिन कोटा जाने की हिम्मत नहीं हो रही है। वह चुनौती देते हैं कि प्रियंका वाड्रा कोटा जाएं और मृत बच्चों के परिजनों से संवेदना जताते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से त्यागपत्र देने को कहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here