चीन में कोरोना वायरस से बिगड़े हालात, WHO ने बुलाई आपात बैठक

0
23

बीजिंगः चीन में सार्स (SARS) जैसे नए कोरोना वायरस से हालात बिगड़ते जा रहे हैं। यहां अब तक कम से कम 9 लोगों की मौत के मामले सामने आ चुके हैं। देश के शीर्ष नेताओं ने अधिकारियों को चेतावनी दी है कि वे ऐसे मामलों को दबाने की कोशिश न करें, वहीं विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) इस खतरनाक बीमारी से लड़ाई के लिए इसे अंतरराष्ट्रीय जन स्वास्थ्य आपदा घोषित करने पर विचार कर रहा है. सरकार द्वारा इस बीमारी पर काबू पाने की कोशिशों के बीच इससे प्रभावित लोगों की संख्या बढ़कर करीब 440 हो गई है

WHO ने बुलाई आपात बैठक

सरकार एक करोड़ 20 लाख की आबादी वाले वुहान शहर से लोगों की आवाजाही पर नजर रख रही है जहां सार्स जैसे विषाणु का पहला मामला दिसंबर में सामने आया था। बीमारी को लेकर बुधवार को डब्ल्यूएचओ (WHO) ने  जिनेवा में आज एक आपातकालीन बैठक बुलाई है आपातकालीन बैठक बुलाई है जिसमें इसे अंतरराष्ट्रीय लोक स्वास्थ्य आपदा घोषित करने पर विचार होगा- जैसा कि उसने स्वाइन फ्लू और इबोला के समय किया था।  इस बैठक में अंतरराष्‍ट्रीय स्वास्थ्य आपात काल की घोषणा कर सकता है। चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने सोमवार को पुष्टि की कि चीनी अधिकारी जिनेवा में डब्ल्यूएचओ द्वारा बुलाए गए अंतरराष्‍ट्रीय स्वास्थ्य विनियमन (IHR) की आपातकालीन बैठक में भाग लेंगे।

इस बैठक में विशेषज्ञ भी शामिल होंगे
गेंग शुआंग ने कहा कि जिन देशों से वायरस की फैलने की सूचना मिली है, उस देश के विशेषज्ञ भी बैठक में शामिल होंगे। इसके साथ इस महामारी की जानकारी साझा करेंगे और वैज्ञानिक समाधान भी सुझाएंगे। उन्होंने कहा कि चीन ने WHO के साथ-साथ हांगकांग और मकाऊ के अलावा उन देशों के बारे में जानकारी साझा की है जो चीन के विशेष प्रशासनिक क्षेत्र हैं। गौरतलब है कि पूर्व में इबोला और स्वाइन फ्लू के प्रकोप के दौरान डब्ल्यूएचओ ऐसी आपात स्थिति घोषित की थी, जिसके लिए एक अंतर्राष्ट्रीय प्रयास की आवश्यकता थी।

चीनी नव वर्ष पर खतरा बढ़ने के आसार
अगर ऐसी घोषणा की जाती है तो इसे लेकर अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया में समन्वय का तत्काल आह्वान किया जाएगा क्योंकि 24 जनवरी से शुरू हो रहे चीनी नव वर्ष और वसंत उत्सव की छुट्टियों के दौरान लाखों चीनी स्वदेश या अपने देश से दूसरे देश की यात्रा करेंगे। इन लोगों की यात्रा से बीमारी के प्रसार का जोखिम कई गुना बढ़ जाएगा। भारत इस मामले में पहले ही यात्रा परामर्श जारी कर चुका है।

भारत सहित कई देशों ने जारी किया अलर्ट
बता दें कि चीनी शहर वुहान में कोरोनावायरस का प्रकोप शुरू हुआ। यहां अब तक सबसे अधिक मामले (258) दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा दो मामले थाईलैंड और एक-एक अमेरिका, ब्रिटेन, जापान, दक्षिण कोरिया और ताइवान में दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा आस्‍ट्रेलिया में इसकी आहट है। चीन के शीर्ष नेताओं ने वायरस के खिलाफ चेतावनी दी है। उधर,  इस वायरस के मद्देनजर भारत में भी केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की एडवाइजरी के बाद नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने सभी एयरपोर्ट्स को चीन से आने वाले यात्रियों की जांच करने के निर्देश दिए हैं. कोरोना वायरस की स्क्रीनिंग के लिए सभी एयरपोर्ट्स को तुरंत लॉजिस्टिक सपोर्ट की व्यवस्था करने को कहा गया है, जिन यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है उसमें हांगकांग से भारत पहुंचने वाले यात्री भी शामिल हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here