कोरोना वायरसः चीन में सड़कों पर जाते-जाते मर रहे लोग, भयावह तस्वीरें वायरल

0
27

बीजिंगः चीन में कोरोना वायरस खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है। यहां हालात इतने भयावह हो चुके हैं कि अबराह चलते लोग अचानक गिर रहे हैं और उनकी मौत हो रही है। सड़क पर लोगों के शव मिल रहे हैं। ऐसी तस्वीरें भी वहां से सामने आ रही है। , एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन के वुहान शहर में ऐसे मामले सामने आ रहे हैं। मास्क लगाए हुए एक साइकिल चालक अचानक गिर गया। जब उसके पास मेडिसिन टीम पहुंचकर देखती है तो वह मरा हुआ मिला। वुहान के लोगों का कहना है कि साइकिल वाले राहगीर की मौत कोरोना वायरस से हुई है क्योंकि इन दिनों कई लोग ऐसे ही मारे गए हैं, यह बहुत ही भयानक स्थिति है।

चीन के सामने मास्क की कमी
चीन में कोरोना वायरस से अब तक 259 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 12 हजार के करीब चीनी नागरिक इस वायरस से संक्रमित हैं। हालात ये हैं कि चीन के सामने मास्क की कमी हो गई है। वहां के लोगों को वायरस के संक्रमण से बचाने में यह कमी बाधा बन रही है। उधर वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने कोरोना वायरस को लेकर वैश्विक स्वास्थ आपातकाल घोषित कर दिया है। चीन ने कहा है कि सभी देशों को जिम्मेदार बर्ताव करना चाहिए और अत्यधिक प्रतिक्रिया से बचना चाहिए। चीन के विदेशमंत्री वांग यी ने कहा कि वे सभी विदेशी नागरिकों की सुरक्षा करने का आश्वासन देते हैं।  चीन की सरकार ने लोगों से अपील की, कि वे मांस खाना बंद कर सब्जियां खाएं। चीन के हुबेई प्रांत के सभी शहरों समेत पूरे देश के 21 शहरों में मांसाहार को प्रतिबंधित कर दिया गया है। वहीं चीन ने कोरोना वायरस को लेकर 34 में से 25 प्रांतीय खंडों में स्वास्थ्य का उच्चतम आपातकाल घोषित कर दिया है। ताकी लोग कोरोना वायरस की चपेट में न आए।

 चीन ने थाइलैंड, मलेशिया से वुहान के नागरिकों को वापस बुलाया
थाइलैंड और मलेशिया से हुबेई प्रांत के नागरिकों को विमानों के माध्यम से वुहान वापस लाया गया जहां सुरक्षित परिधान पहने अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। शियामेन एयरलाइन्स का एक चार्टर विमान शुक्रवार देर रात बैंकॉक से हुबेई की राजधानी वुहान पहुंचा जहां जंगली पशुओं के एक बाजार से संक्रमण की शुरूआत हुई मानी जाती है। संक्रमण से पूरी तरह सुरक्षित सफेद परिधान पहने स्वास्थ्य अधिकारियों ने विमान से उतरे 73 यात्रियों का स्वागत किया  । शियामेन की दूसरी उड़ान कुछ ही देर बाद मलेशिया के प्रसिद्ध तटीय पर्यटन केंद्र कोटा किनाबालू से हुबेई के नागरिकों को लेकर पहुंची। चीन के विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा था कि वह विदेशों से वुहान के नागरिकों को जल्द से जल्द वापस लाएगा क्योंकि उन्हें वहां व्यावहारिक कठिनाइयां आ रही हैं। इससे पहले दुनियाभर में 30 से ज्यादा एयरलाइन्स ने घोषणा की थी कि वे चीन जाने वाली उड़ानों को रोक रही हैं।

चीन ने अमेरिका के यात्रा नियंत्रण का किया विरोध
चीन में कोरोना वायरस के संक्रमण से शनिवार तक मृतक संख्या 259 हो गई और इसी बीच अमेरिका ने उन विदेशी नागरिकों के देश में प्रवेश पर अस्थायी प्रतिबंध लगा दिए गए हैं जिन्होंने पिछले दो सप्ताह में चीन की यात्रा की है। चीन ने अमेरिका के इस कदम की निंदा की है। दक्षिण कोरिया और भारत ने अपने नागरिकों को वुहान से बाहर निकाला है। विषाणु का केंद्र बने वुहान शहर के लाखों लोगों को यहां से बाहर निकालने पर रोक है ताकि इस बीमारी के प्रसार को रोका जा सके।

इंडोनेशिया भी चीन से अपने नागरिकों को बाहर निकालेगा
इंडोनेशिया भी अपने नागरिकों को बाहर निकालने के लिए विमान भेज रहा है। चीन में कुल 11,791 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। अमेरिका ने इस संबंध में लोक स्वास्थ्य को लेकर आपात स्थिति घोषित की है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक ऐसे आदेश पर हस्ताक्षर किया है जिसके तहत अमेरिकी नागरिकों और स्थायी निवासियों के परिवारों के निकट सदस्यों के अलावा उन सभी विदेशी नागरिकों को अमेरिका में प्रवेश नहीं दिया जाएगा जो दो सप्ताह पहले चीन की यात्रा करके आ रहे हैं। चीन की सरकार ने इस कदम की आलोचना करते हुए कहा कि यह आदेश विश्व स्वास्थ्य संगठन की अपील के विरोधाभासी है।

पूरा भारत कोरोना वायरस की चपेट में
वहीं पुणे, मुंबई, बिहार, उज्जैन, चंडीगढ़, के बाद कोरोना वायरस, दिल्ली पहुंच गया है। जानकारी के मुताबिक दिल्ली में कोरोना वायरस के 4 संदिग्ध मिले हैं जिन्हें RML अस्पताल में भर्ती कराया गया है, ये चारों मरीज चीन से दिल्ली आए थे। फिलहाल डॉक्टरों की टीम उनकी जांच कर रही है। तो दूसरी तरफ मध्य प्रदेश के उज्जैन में भी कोरोना वायरस का एक संदिग्ध मिला जिसे अस्पताल में भर्ती किया गया है।

क्या है कोरोना?
वायरस बता दें कि कोरोना वायरस ( CoV ) एक जूनोटिक है। ये वायरस जानवरों से मानवों में फैलता है। यहा वायरस कोरोना संक्रमित किसी व्यक्ति के संपर्क में आने से भी फैलता है। यहा वायरस खांसी, छींक या हाथ मिलाना से भी फैल सकता है। किसी संक्रमित व्यक्ति के छूने और फिर अपने मुंह, नाक या आंखों को छूने से भी वायरस का संक्रमण हो सकता है।

बचने के उपाय
फिलहाल भारत या किसी देश में अबतक इस का इलाज नहीं हो पाया है। अभी तक ना तो कोरोना वायरस की कोई वैक्सीन बनी है और न ही 2019-nCoV की। इससे बचने के लिए निम्न सावधानियां बरती जा सकती हैं…

  • मास्क पहनें और किसी बीमार, झुकाम, निमोनिया से ग्रसित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचें।
  • अपनी आंखों, नाक और मुंह को न छुएं।
  • अपने हाथ साबुन और पानी या अल्कोहल युक्त हैंड रब से साफ करें।
  • खांसते या छींकते वक्त अपनी नाक और मुंह को टिश्यू या मुड़ी हुई कोहनी से ढकें।
  • जिन्हें सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण हों, उनके साथ करीबी संपर्क बनाने से बचें।
  • मीट और अंडों को अच्छे से पकाएं।
  • जंगल और खेतों में रहने वाले जानवरों के साथ असुरक्षित संपर्क न बनाएं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here