कांग्रेस में हो सकते हैं 2 कार्यकारी अध्यक्ष, एक हो सकता है दक्षिण भारत से

0
48

नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों में मिली करारी हार के बाद कई राज्य इकाइयों में उभरे मतभेद और पलायन की आशंका के बीच कांग्रेस पार्टी में बड़े पैमाने पर उथल-पुथल देखने को मिल रही है। राहुल गांधी के वायनाड दौरे के बीच खबर है कि उनके कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा वापस न लेने पर अड़े रहने की स्थिति में पार्टी के सदस्य एक से ज्यादा कार्यकारी अध्यक्ष बनाए जाने के मॉडल को अंतिम रूप दे रहे हैं। नए उत्तराधिकारी के बारे में काफी मंथन के बाद पार्टी के सदस्यों के बीच इस बात पर सहमति बनी है कि कांग्रेस के 2 कार्यकारी अध्यक्ष होने चाहिएं, उनमें से एक अगर दक्षिण भारत से हो तो पार्टी के लिए अच्छा होगा। वहीं एक प्रस्ताव यह भी है कि कार्यकारी अध्यक्ष अनुसूचित जातियों और अनुसूचित जनजातियों में से होने चाहिएं।

गहलोत को लग सकता है झटका
सूत्रों ने यह भी बताया कि क्षेत्रीय नेता जिन्होंने पार्टी नेतृत्व की राय में और कांग्रेस के अभियान में पूरा योगदान नहीं दिया वे इसकी कीमत चुका सकते हैं। इनमें से एक राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी शामिल हैं। आपको बता दें कि गहलोत के बेटे वैभव की जोधपुर से लोकसभा चुनाव हार गए हैं। इस हार का ठीकरा गहलोत ने राज्य कांग्रेस अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट पर फोड़ा था। हालांकि सार्वजनिक तौर पर वह आपसी एकता बनाए नजर आते हैं।

मोइली बोले-पद न छोड़ें राहुल
उधर, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एम. वीरप्पा मोइली ने राहुल गांधी से अपील की है कि वह पद न छोड़ें और कई राज्य यूनिटों में पैदा हुए मतभेद को दूर करें। उन्होंने कहा कि विकल्प दिए बगैर वह पार्टी अध्यक्ष पद नहीं छोड़ सकते हैं। दरअसल पंजाब और राजस्थान में पार्टी के भीतर मतभेद और तेलंगाना व महाराष्ट्र में पलायन की आशंका से जुड़ी खबरें आ रही हैं। इस पर पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि पार्टी में हम सभी इसको लेकर ङ्क्षचतित हैं।

शिंदे और खडग़े के नाम की चर्चा
पार्टी सूत्रों के अनुसार इस संबंध में कुछ नाम प्रस्तावित भी किए गए हैं। इनमें अनुसूचित जाति के 2 नेता सुशील कुमार शिंदे और मल्लिकार्जुन खडग़े शामिल हैं। इनके साथ ज्योतिरादित्य सिंधिया का नाम भी युवा अध्यक्ष के तौर पर लिया गया है। सूत्रों ने बताया कि नया सैट-अप संसद के बजट सत्र से पहले हो सकता है। इससे पहले पार्टी ने 3 या 4 कार्यकारी अध्यक्ष के लिए प्रस्ताव दिया था। कहा गया था कि उत्तर, दक्षिण और पूर्वी भारत से एक-एक और अगर चौथा अध्यक्ष पश्चिम भारत से चुना जाए तो कोई हर्ज नहीं।

कांग्रेसी नेता असलम बोले, मैं अध्यक्ष पद संभालने को तैयार
पूर्व केन्द्रीय मंत्री और हॉकी ओलिम्पियन असलम शेर खान ने पत्र लिखते हुए कहा है कि अगर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पद छोड़ते हैं तो वह 2 साल के लिए इस पद को संभालने के लिए तैयार हैं। हालांकि कांग्रेस के कई सीनियर नेता उनकी इस बात को गंभीरतापूर्वक नहीं ले रहे हैं। 1975 में मलेशिया के कुआलालम्पुर में जीती इंडियन हॉकी टीम का सदस्य रह चुके असलम खान ने कहा कि उन्होंने यह प्रस्ताव उनके एक अंतर्राष्ट्रीय खिलाड़ी व राजनेता दोनों के तौर पर अनुभव के आधार पर किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here