महोबाः जहरीला पानी पीने से 100 से ज्यादा ग्रामीण बीमार, मचा हड़कंप

0
51

महोबाः ‘जल ही जीवन है’ यह महज वाक्य नहीं वास्तविकता है। इंसान बिन भोजन के तो कुछ दिन जी सकता है मगर बिन पानी के जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। ऐसे में जल ही जहर बन जाए तो क्या कहिएगा। मामला है महोबा जिले से जहां सरकारी हैडपम्प का पानी जहर बन गया है। हैडपम्प का पानी पीने से पलका गांव के दर्जनों बच्चों सहित करीब 100 से ज्यादा ग्रामीण बीमार हो गए हैं। ग्रामीणों की हालत लगातार बिगड़ने से गांव में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है।

हैंडपंप का पानी बना जहर
बता दें कि सदर तहसील के पलका गांव में लगे सरकारी हैंडपंप गांववालों की प्यास बुझाने की जगह उनकी जान के दुश्मन बन गए हैं। दोनों हैंडपंपों से निकलने वाले पानी से गांव के हर घर से बच्चे, बूढ़े और जवान बीमार होकर जिला अस्पताल पहुंच रहे हैं। ग्रामीणों की बिगड़ती स्थिति को देख स्वास्थ विभाग की टीमों ने गांव में अपना डेरा डाल लिया है। अब गांव में ही बीमार लोगों के बेहतर इलाज का दावा किया जा रहा है।

DM ने टीम गठित कर दिए जांच के आदेश
बता दें कि 5 से अधिक एम्बुलेंसों से 60 से ज्यादा ग्रामीणों को जिला अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। घटना को गंभीरता से लेते हुए DM अवधेश कुमार तिवारी ने स्वास्थय विभाग और जल निगम की टीम गठित कर जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही बीमार ग्रामीणों का हाल जानने के लिए डीएम खुद जिला अस्पताल जा पहुंचे।

ग्रामीणों की जुबां पर एक ही बात, ‘डॉक्टर साहब हमें बचा लो
उधर सरकारी एम्बुलेंस से जिला अस्पताल की दहलीज पर उतर रहे ग्रामीणों के जुबां से एक ही आवाज निकल रही है कि डॉक्टर साहब हमें बचा लीजिए। बीमार ग्रामीणों को देख सीएमएस ने तमाम चिकित्सकों के साथ मिलकर आनन-फानन में इलाज शुरू कर दिया है।  ग्रामीण बीमारों में सबसे बुरी हालत मासूम बच्चों और बुजुर्ग महिलाओं की है।

हैंडपंप के दूषित पानी से लोग हो रहे बीमार: ग्राम प्रधान
ग्राम प्रधान बृजलाल की मानें तो हैडपम्प के दूषित जल से ही गांव में लोग बीमारी का शिकार हुए हैं। गांव में सरकारी एम्बुलेंस के द्वारा बीमार लोगों को इलाज के लिए जिला अस्पताल भेज जा रहा है। इसके साथ ही संक्रामक बीमारी से बचाव को लिए दवा का छिड़काव किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here