बाघ ने महिला का किया शिकार, ग्रामीणों ने वन विभाग के इको सेंटर में तोड़फोड़ कर लगाई आग

0
18

पिपरिया: आदिवासी अंचल मटकुली के मेहंदीखेड़ा गांव में शुक्रवार सुबह जंगल से आए बाघ ने खेत में काम कर रही कुसमरिया बाई उम्र करीब 45 साल पर हमला कर उसको मार दिया। इसके बाद गुस्साए आदिवासियों ने मटकुली के इको सेंटर में न केवल तोड़ फोड़ कर दी बल्कि सेंटर के एक हिस्से में आग भी लगा दी हैं।

ग्रामीणों ने पूरे इको सेंटर के दरवाजे तोड़े और खिड़कियों के कांच फोड़ दिए। वही ग्रामीणों ने पचमढी-छिंदवाड़ा-भोपाल मार्ग पर चक्का जाम कर सतपुड़ा टाइगर रिजर्व प्रबन्धन के खिलाफ जम कर नारेबाजी की हैं।

नाराज ग्रामीणों का कहना हैं कि कई गांवों को विस्तापित कर दिया हैं। परंतु इसके बाद भी अब शेर हमारे घरों तक आ पहुंचे हैं। मौके पर स्टेशन रोड टी.आई और भारी पुलिस ने पहुंच कर ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया परंतु ग्रामीण किसी की बात सुनने को तैयार नहीं हैं। बताया जा रहा है कि हाल ही में बांधवगढ़ से इस बाघ को पट्टन गांव में छोड़ा गया था। जिसने गुरुवार को ही 2 गायों को अपना शिकार बनाया था। आज महिला का शव क्षत-विक्षत मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here