हिमाद्री सिंह चुनाव जीतने के 28 दिन बाद बनी मां, बड़ी दिलचस्प है इनके सांसद बनने की कहानी

0
85

भोपाल। मध्यप्रदेश के शहडोल से भाजपा सांसद हिमाद्री सिंह चुनाव जीतने के 28 दिन बाद मां बनी हैं।हिमाद्री सिंह को प्रथम पुत्री की प्राप्ति हुई है। उन्होंने जिला मुख्यालय के एक निजी अस्पताल में 20 जून को सुबह बेटी को जन्म दिया। हिमाद्री सिंह के पति अनुसूचित जनजाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष नरेंद्र मरावी ने बताया कि जच्चा और बच्चा दोनों पूरी तरह स्वस्थ हैं।

हिमाद्री सिंह लोकसभा चुनाव से पहले ही भाजपा में शामिल हुई थीं। इससे पहले वो कांग्रेस की सांसद थीं। भाजपा नेता नरेंद्र मरावी से शादी के बाद वह कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल हो गईं थी। सांसद बनने के बाद हिमाद्री सिंह ने एक बेटी को जन्म ( himadri singh become mother ) दिया है। लोकसभा चुनावों के दौरान हिमाद्री सिंह गर्भवती थीं। फिर भी वोट के लोगों के बीच सक्रिय रहीं। वह इसी साल मार्च में पार्टी में शामिल हुईं थी। चुनाव की तारीखों का ऐलान होते ही पार्टी ने हिमाद्री सिंह को टिकट दे दिया। वो चुनाव लड़ी और कांग्रेस उम्मीदवार प्रमिला सिंह को चार लाख वोटों से चुनाव हराया।

हिमाद्री सिंह के मां-बाप भी रहे हैं सांसद

शहडोल सांसद हिमाद्री सिंह का पूरा परिवार कांग्रेस में है। उनके पिता दलवीर सिंह कांग्रेस से सांसद रहते हुए केंद्र सरकार में दो बार मंत्री रहे हैं। इसके साथ ही हिमाद्री की मां राजेश नंदिनी भी कांग्रेस से सांसद रही हैं। लेकिन कांग्रेस हिमाद्री सिंह ने जिस नरेंद्र मरावी से शादी किया है वो भाजपा के नेता हैं।

लोकसभा चुनाव से पूर्व हुई थीं शामिल

सितंबर 2017 में हिमाद्री सिंह ने भाजपा नेता नरेंद्र मरावी से शादी कीं। शादी के बाद से ही कयास लगाए जा रहे थें कि हिमाद्री भी भाजपा में शामिल हो जाएंगी। विवाह के वक्त हिमाद्री सिंह ने कहा था कि कुछ भी हो जाए, लेकिन वह कांग्रेस नहीं छोड़ेंगी, राजनीति में कभी भी वैवाहिक जिंदगी नहीं आएगी। लेकिन मार्च 2019 में हिमाद्री सिंह भी पति के रंग में रंग गईं और भगवा चोला धारण कर भाजपा में शामिल हो गईं।

पहली बार बनी हैं मां

हिमाद्री सिंह पहली बार मां बनी हैं। वो शहडोल से भाजपा की सांसद हैं। 20 जून को उन्होंने शहडोल के एक निजी अस्पताल में बेटी को जन्म दिया। उसके बाद से उनके घर में खुशी की लहर है। इसके साथ ही भाजपा कार्यकर्ता भी उन्हें लगातार बधाई दे रहे हैं। उनके पति नरेंद्र मरावी ने सोशल मीडिया पर बिटिया को गोद में लिए हुए तस्वीर शेयर की हैं। अस्पताल पहुंचकर भाजपा के नेता और कार्यकर्ता सांसद हिमाद्री सिंह को बधाई दे रहे हैं।

पति के परिवार की हो गईं हूं

कांग्रेस छोड़ जब हिमाद्री सिंह भा में शामिल हुईं तो सवाल उठ रहे थे। इस पर हिमाद्री सिंह ने कहा था कि शादी के बाद एक लड़की घर छोड़कर दूसरे घर में आती है तो उसका परिवार वही हो जाता है। मैं भी अपने माता-पिता का घर छोड़कर नरेंद्र मरावी के घर आई। जब मायके में थी तो कांग्रेस में रही और अब मरावी के घर आई तो भाजपा में शामिल हो गईं।

कांग्रेस चाहती थी हिमाद्री का पति पार्टी में शामिल हो

हिमाद्री की पहचान मध्यप्रदेश के विंध्य इलाके में तेज तर्रार नेत्री के रूप में है। लोकसभा चुनावों से पहले कांग्रेस भी उन्हें शहडोल से टिकट देने को तैयार थी। लेकिन बताया जाता है कि कांग्रेस ने हिमाद्री के सामने एक शर्त रख दी थी कि वह अपने पति नरेंद्र मरावी को कांग्रेस में शामिल कराएं। लेकिन हिमाद्री इसके लिए तैयार नहीं हुईं और पार्टी छोड़ने का फैसला कर लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here