सदन में सदस्यों के व्यवहार पर नाराज वेंकैया नायडू बोले- इससे बेहतर तो स्कूल होता है

0
64

नई दिल्ली: राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने सदन के सदस्यों के व्यवहार पर टिप्पणी करते हुुए बुधवार को कहा कि इससे बेहतर तो स्कूल होता है। नायडू ने सुबह सदन की कार्यवाही शुरू करते हुए जरुरी दस्तावेज पटल पर रखवाए और सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें अपना वक्तव्य देते वक्त समयसीमा का ध्यान रखना चाहिए। वक्तव्य के समय अन्य सदस्यों को धीरे बोलना चाहिए और कार्यवाही में व्यवधान पैदा नहीं करना चाहिए। सदन में व्यवस्था बनाने के लिए यह जरुरी है कि सभी सदस्य सदन के नियमों का पालन करें। नायडू ने बताया कि सदस्य ने कहा कि यह कोई स्कूल है?…. अरे भाई, स्कूल तो इससे बेहतर होता है। वहां एक्शन तो ले सकते हैं।”

गौरतलब है कि सभापति सदन का कामकाज सुचारु रुप से चलाने के लिए व्यवस्था बनाए रखने पर जोर देते हैं और सदस्यों से सदन की नियमों और परंपराओं का पालन करने का अनुरोध करते हैं। इसके बाद सभापति ने राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा कराने के लिए शून्यकाल और प्रश्नकाल नहीं कराने की घोषणा की और बोलने के लिए सदस्य का नाम पुकारा। बहुजन समाज पार्टी के वीर सिंह के बोलने के लिए 10 मिनट का समय मांगने पर नायडु ने कहा, ‘‘मैं क्या करूं? जनता ने (आपको) समय दिया ही नहीं।” सिंह को अपना वक्तव्य देने के लिए तीन मिनट का समय आवंटित हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here